गुलामी तो तेरे इश्क की  है वरना,    ये दिल कल भी नवाब था